SEO क्या है : टॉप रैंक के लिए SEO कैसे करें : What Is SEO In Hindi

SEO क्या है ? – आज के समय में ऑनलाइन गूगल या फिर किसी अन्य Search Engine द्वारा हर प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते है। जो जानकारी अलग अलग प्रकार की वेबसाइटें और ब्लॉग द्वारा लिखी जाती है। इनमे से 99% वेबसाइट और ब्लॉग इन जानकारी को लोगो के समक्ष का कर ऑनलाइन पैसा कमाते है। या फिर अपनी कोई सर्विस या प्रोडक्ट को यूजर तक पहुंचते है। लेकिन ये तभी ज्यादा संभव है।

जब किसी ब्लॉग या वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा ऑर्गेनिक ट्रैफिक आए। और ऑर्गेनिक ट्रैफिक के लिए आपका ब्लॉग या वेबसाइट के पोस्ट या अन्य प्रकार की सामग्री गूगल सर्च इंजन में रैंक होनी जरूरी है। और किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग को रैंक करने के लिए सबसे जरूरी SEO करना होता है। जिसको करने के काफी तरीके है। तो इसलिए आज इस लेख के माध्यम से आप SEO क्या है ? के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। जिस से की आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को आसानी से रैंक कर पाएंगे।

SEO क्या है – What Is SEO In Hindi

SEO (सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन) किसी वेबसाइट या ब्लॉग के किसी भी वेबपेज को सर्च इंजन के ऑर्गेनिक रिजल्ट से उसके ट्रैफ़िक की मात्रा और गुणवत्ता बढ़ाने के लिए ऑप्टिमाइज़ किया जाता है। दूसरे शब्दों में ये भी के सकते है। कि SEO किसी वेबसाइट या सामग्री के टुकड़े को Google पर उच्च रैंक दिलाने में मदद करने के लिए कदम उठाने की प्रक्रिया है। जिस से किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग लिखी गई सामग्री के ज्यादा से ज्यादा कीवर्ड सर्च इंजन में टॉप पर रैंक कर सके। जिस से की ऑर्गेनिक ट्रैफिक को ज्यादा से ज्यादा लाया जा सके। SEO सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का अर्थ है।

 

Seo kaise karen

कि किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग को किसी भी सर्च इंजन की खोज और परिणाम प्रणाली के तहत अनुकूल बनाना। ताकि जब कोई कुछ यूजर किसी भी क्वेरी को किसी भी search engine या गूगल पर खोजता है तो Google जैसे सर्च इंजन उस परिणाम को टॉप की ओर दिखाते हैं। उदहारण के तौर पर – अगर किसी यूज़र ने गूगल पर “SEO क्या है” है।

और आपने SEO के उपर पूरी जानकारी भरा लेख लिखा है। और आपने सही से अपनी वेबसाइट या ब्लॉग या पोस्ट का SEO ठीक से किया है। तो गूगल उस वेबसाइट या ब्लॉग की उस पोस्ट को सर्च रिजल्ट में टॉप पोजीशन में दिखाएगा। जिस से आपकी ट्रैफिक बढ़ेगी। यही SEO का काम होता है। अब आप समझ गए होंगे कि SEO क्या है ?

SEO FULL FORM 

SEO की फुल फॉर्म SEARCH ENGINE OPTIMIZATION है।

SEO किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग के लिए क्यों जरुरी है?

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO) डिजिटल मार्केटिंग में आने वाली किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग का इंपोर्टेंट हिस्सा होता है। क्योंकि लोग हर दिन करोड़ों और अरबों में गूगल पर अलग अलग खोज को के कर सर्च होती है। जो कि किसी जानकारी और service से रिलेटेड होती है। Search अक्सर ब्रांडों के लिए डिजिटल ट्रैफ़िक का प्राथमिक स्रोत होता है। और अन्य मार्केटिंग चैनलों का पूरक होता है। आपकी प्रतिस्पर्धा की तुलना में खोज परिणामों में अधिक दृश्यता और रैंकिंग आपके निचले स्तर पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है। हालांकि, खोज परिणाम पिछले कुछ वर्षों में विकसित हो रहे हैं।

SEO क्या है

ताकि उपयोगकर्ताओं को अधिक प्रत्यक्ष उत्तर और जानकारी दी जा सके। जो उपयोगकर्ताओं को अन्य वेबसाइटों पर ले जाने के बजाय गूगल की टॉप सर्च रिजल्ट के परिणामों में आने वाली वेबसाइट या ब्लॉग के वेब पेज पर जाने की अधिक संभावना होती है। संक्षेप में, एसईओ एक समग्र विपणन पारिस्थितिकी सिस्टम का आधार है। जब आप समझ जाते हैं। कि आपकी वेबसाइट या ब्लॉग के उपयोगकर्ता क्या चाहते हैं। तो आप उस ज्ञान को अपने विजिटर तक पहुंचाने के लिए SEO के जरिए पहुंचा सकते है।

(SEO) एसईओ कैसे काम करता है?

गूगल और बिंग जैसे सर्च इंजन बॉट्स का उपयोग वेब पर पेजों को क्रॉल करने, एक साइट से दूसरे साइट पर जाने, उन पेजों के बारे में जानकारी एकत्र करने और उन्हें एक इंडेक्स में डालने के लिए करते हैं। Index zone एक तरह का विशाल पुस्तकालय के समान होता है। जहां एक लाइब्रेरियन एक किताब (या एक वेब पेज) को खींच सकता है। और अपने यूजर की खोज के अनुसार रिजल्ट के रूप में दिखा देता है।

ताकि यूजर को उस समय ठीक वही मिल सके। जो यूजर वास्तव में खोज रहे हैं इसके बाद किसी भी सर्च इंजन का एल्गोरिदम इंडेक्स में पृष्ठों का विश्लेषण करता है। और सैकड़ों रैंकिंग कारकों या संकेतों को ध्यान में रखते हुए यह निर्धारित करने के लिए कि किसी दिए गए क्वेरी के लिए खोज परिणामों में के तौर पर यूजर को क्या परिणाम दिखाना है।

SEO क्या है

हमारे एसईओ सफलता कारकों को उपयोगकर्ता अनुभव के पहलुओं के लिए प्रॉक्सी माना जा सकता है। इस तरह से search bot अनुमान लगाते हैं। कि कोई वेबसाइट या वेब पेज खोजकर्ता को वह कितना अच्छा दे सकता है। जो वे खोज रहे हैं। आप हाई ऑर्गेनिक सर्च रैंकिंग प्राप्त करने के लिए खोज इंजन का भुगतान नहीं कर सकते हैं।

सिर्फ seo से ही आप गूगल सर्च में अपनी रैंकिंग को टॉप पर के जा सकते है। Search एल्गोरिथम प्रासंगिक आधिकारिक पृष्ठों को प्रदर्शित करने और उपयोगकर्ताओं को एक कुशल खोज अनुभव प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। इन कारकों को ध्यान में रखते हुए अपनी साइट और सामग्री को अनुकूलित करने से आपके पृष्ठों को खोज परिणामों में उच्च रैंक प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।

वेबसाइट या ब्लॉग के लिए SEO कैसे करें ?

आइए शुरुआत में किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट में उपयोग होने वाले 10 प्रकार के SEO क्या है तरीकों के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे। जिनका उपयोग आप अभी अपनी वेबसाइट को बेहतर बनाने के लिए कर सकते हैं।

1. कीवर्ड रिसर्च और Relevant शब्दों का प्रयोग करें।

SEO में कीवर्ड एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। एक कीवर्ड आपके लेख के मुख्य विषय को दर्शाता करता है। और यह वही है जो लोगों द्वारा रुचि के विषय के लिए ऑनलाइन खोज करने के बाद आपके लेख को खोजना संभव बनाता है।

एक कीवर्ड अनिवार्य रूप से वह शब्द है। जो लोग कुछ खोजते समय टाइप करेंगे। यही कारण है। कि आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए। कि आपका कीवर्ड आपके लक्षित दर्शकों के खोज उद्देश्य के साथ अटैच हो। यह एक छोटा कीवर्ड हो सकता है जैसे ‘डिजिटल मार्केटिंग’ या फिर लॉन्ग-टेल-कीवर्ड जैसे कि एक अच्छा डिजिटल विज्ञापन अभियान कैसे बनाया जाए’।

SEO क्या है

छोटे कीवर्ड में आमतौर पर हाई सर्च वॉल्यूम होती है। इसका मतलब है। कि उन्हें रैंक करना अधिक कठिन हो सकता है। लॉन्ग-टेल-कीवर्ड में search volume कम होती है। लेकिन इसकी तुलना में वे बहुत विशिष्ट होते हैं। इसका फायदा यह है। कि आप उसमें रुचि रखने वाले सटीक दर्शकों को लक्षित करने में सक्षम हैं। लॉन्ग-टेल और शॉर्ट- दोनों कीवर्ड के मिश्रण के लिए जाना सबसे अच्छा है।

इसके अलावा उपयोग किए जाने वाले कीवर्ड की खोज मात्रा और रैंक कठिनाई पर रिसर्च करके ही कीवर्ड को चुनकर अपने आर्टिकल में उपयोग करें । किसी भी कीवर्ड की सर्च वॉल्यूम ये दर्शाती है। कि लोग इस विशिष्ट कीवर्ड को कितनी बार खोजते हैं। अधिक खोज मात्रा का अर्थ है। कि लोग इस विषय में अधिक रुचि रखते हैं। दूसरी ओर, रैंक की कठिनाई इंगित करती है कि खोज इंजन परिणामों में रैंक करना कितना कठिन होगा।

2. कीवर्ड को अपने पूरे पृष्ठ पर रखें।

प्रत्येक पृष्ठ या ब्लॉग पोस्ट में अलग-अलग Relevant कीवर्ड होते हैं। इस लेख के लिए कीवर्ड ‘शुरुआती के लिए एसईओ है। शायद यही वह शब्द है। जिसे आपने खोजा है।मुख्यरूप से कीवर्ड आपके द्वारा चुने गए कीवर्ड निम्न चीज़ों में होने चाहिए। जिस से की आपका आर्टिकल इन कीवर्ड की मदद से किसी भी सर्च इंजन में रैंक हो सके।
जैसे कि :-

  • आपके पोस्ट के टाइटल में चयनित कीवर्ड होना चाहिए।
  • पोस्ट के url (slug) में
  • पोस्ट का पहला और आखिरी पैराग्राफ में
  • पूरे पोस्ट में व्यवस्थित रूप से
  • उपयोग की गई इमेज के alt text में
  • बस ‘कीवर्ड स्टफिंग’ से सावधान रहें।

3. Permalinks में कीवर्ड को शामिल करें

एक परमालिंक वह URL है। जिसे आप किसी वेबपेज तक पहुँचने पर देखते हैं। Permalinks आपकी वेबसाइट के समग्र ढांचे के बारे में बहुत कुछ कहते हैं। वे बहुत लंबे नहीं होने चाहिए। और साथ ही, स्पष्ट रूप से वर्णन करते हैं। कि वेबपेज या पोस्ट किस बारे में है। सर्च इंजन बॉट आपकी साइट के सभी पृष्ठों को क्रॉल करते हैं। ताकि आपकी साइट के विषय को पूरी तरह से समझ सकें और उन्हें सही ढंग से अनुक्रमित कर सकें।

seo permalink

अपने URL में स्पष्ट और अर्थपूर्ण शब्दों का प्रयोग करें। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास एक ऑनलाइन बुक स्टोर है। तो लोगों को यह दिखाने के लिए कि वे क्या एक्सेस कर रहे हैं। और समग्र जानकारी को प्रासंगिक बनाने में मदद करने के लिए अपने पृष्ठों को परमालिंक के साथ पब्लिश करें। यह सर्च इंजन को पोस्ट कीवर्ड आपकी पोस्ट के बारे में स्पष्ट करता है। और SEO में मदद करता है।

4. पोस्ट की इंटरनल लिंक को हाइपरलिंक करें।

यदि आप वर्तमान में जो पोस्ट लिख रहे हैं। वह किसी अन्य पोस्ट से संबंधित है। जिसे आप पहले ही लिख चुके हैं। तो उसे लिंक करें। अपनी सामग्री को अपनी वेबसाइट पर अन्य पोस्ट और पृष्ठों से हाइपरलिंक करना अच्छा है।

hyper link

यह पाठक को संबंधित पोस्ट को खोजने और आपकी साइट पर अन्य पृष्ठों पर नेविगेट करने में मदद करने के साथ-साथ आपके वेबपृष्ठों को अनुक्रमित करने और प्रासंगिक बनाने में बॉट्स की मदद करके बेहतर उपयोगकर्ता अनुभव में योगदान प्रदान करता है।

5. HIGH QUALITY CONTENT लिखें। 

बेशक, आपको ऐसी सामग्री लिखनी चाहिए जो पाठकों को आकर्षित करे। अपने विषय को पूरी तरह से कवर करना सुनिश्चित करें और महत्वपूर्ण जानकारी को न छोड़ें। यह आवश्यक है। कि आप अपने दर्शकों को वांछित विषय का अवलोकन दें और उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने वाले उत्तर दें।

जरूरी नहीं कि अधिक शब्द उच्च गुणवत्ता के बराबर हों, लेकिन जैसा कि यह यूजर को पूरी जानकारी प्रदान करता हो। कि विषय को गहराई से कवर किया गया है। यह मदद कर सकता है। जैसा कि Hindidrone.com द्वारा इस लेख में बताया गया है। शब्द गणना और रैंकिंग के साथ-साथ लेख की गहराई और रैंकिंग के बीच एक संबंध है।

high quality article

अपने विषय को पूरी तरह से कवर करने के अलावा एक स्पष्ट रूप से जानकारी को लिखें। फिर भी सुरुचिपूर्ण और संवादात्मक तरीके से लिखना अद्भुत काम करता है। उच्च कीवर्ड वॉल्यूम होने की उम्मीद में अपने कीवर्ड को अपने पूरे लेख में न रखें।

हर जगह जितने हो सके उतने कीवर्ड डालकर सिस्टम को धोखा देने की कोशिश करने से काम नहीं चलेगा और बहुत सी वेबसाइटों और ब्लॉग को इसके लिए search engine द्वारा वास्तव में दंडित किया जाता है। सर्च इंजन अत्यधिक बुद्धिमान होते हैं। और कीवर्ड स्टफिंग को पहचान सकते हैं।

6. IMAGE OPTIMIZATION 

पठनीयता के दृष्टिकोण से POST IMAGE बहुत महत्वपूर्ण हैं। वे आपकी POST को रैंक करने में मदद करते हैं। और पाठकों के लिए इसे और अधिक समझने योग्य बनाने में मदद करते हैं।

image optimization

लेकिन ये SEO के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। क्योंकि ये आपकी वेबसाइट को क्रॉल करने में मदद करते हैं। इस लिए हमेशा अपनी ब्लॉगपोस्ट में seo optimize इमेज को यूज करें। जिस से आपकी पोस्ट के रैंक होने के चांस बढ़ जाते है। और साथ ही आपकी पोस्ट की look भी अच्छी होगी।

7. वेबसाइट/ब्लॉग पेज स्पीड अच्छी करें।

वेबसाइट रैंकिंग के लिए आपके पेज की गति अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है। और इसे 2018 से Google द्वारा रैंकिंग कारक के रूप में उपयोग किया गया है। लोग आपके होमपेज पर सचमुच सेकंड खर्च करते हैं। यह चुनने से पहले कि वे इसे और एक्सप्लोर करना चाहते हैं  एक तेजी से लोड होने वाली वेबसाइट एक आदर्श उपयोगकर्ता अनुभव सुनिश्चित करती है।

page speed

यदि आपका पेज लोड होने में बहुत अधिक समय लेता है। तो इसके गंभीर परिणाम होंगे। क्योंकि समय की कमी के कारण लोग अभी प्रतीक्षा करने को तैयार हैं। जिसके परिणामस्वरूप उच्च बाउंस दर होती है। हालांकि बाउंस दर कोई ऐसा कारक नहीं है जो आपकी रैंकिंग को सीधे प्रभावित करता है। यह सीधे आपके पृष्ठ की गति से जुड़ा होता है।

8. TECHNICAL SEO करें। 

तकनीकी एसईओ सिर्फ परमालिंक और सही कीवर्ड चुनने से अलग है। यह आपकी वेबसाइट के लिए एक रेस्पॉन्सिव डिज़ाइन बनाने के बारे में है। यह विषय बहुत विशिष्ट और तकनीकी है। इसलिए यह शुरुआती गाइड के लिए एक एसईओ के वर्णन से परे है। फिर भी, इसे यहाँ बताना महत्वपूर्ण है। एक तकनीकी एसईओ विशेषज्ञ के साथ-साथ अपनी टीम के साथ यह समझने के लिए काम करें। कि आपकी वेबसाइट/ब्लॉग की संरचना और डिजाइन आपके लक्षित दर्शकों के लिए कैसा दिखना चाहिए।

9. अपनी पोस्ट का सोशल मीडिया पर प्रोमोट करें। 

एसईओ किसी भी वेबसाइट/ब्लॉग के लिए एक तरह का जरूरी कार्य है। लेकिन समय और अनुभव के साथ आप शुरुआती समय में एसईओ से अधिक उन्नत स्थिति में चले जाएंगे। अपने ब्लॉग पर लगातार प्रासंगिक पोस्ट प्रकाशित करना (ताजा सामग्री) खोज इंजन पर आपकी रैंकिंग को बेहतर बनाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है।

social media promote

एक बार जब आप HIGH QUALITY CONTENT लिख लेते हैं। तो अपनी पोस्ट को और भी अधिक दर्शकों तक पहुँचाने के लिए प्रचारित करें। आप इसे व्यवस्थित रूप से कर सकते हैं – उन्हें अपने सोशल मीडिया चैनलों पर और न्यूज़लेटर के माध्यम से साझा करके। या सशुल्क विज्ञापन (पीपीसी) के साथ। दोनों आपकी मार्केटिंग रणनीति के लिए महत्वपूर्ण हैं और किसी बिंदु पर किया जाना चाहिए।

CALCULATION

तो दोस्तों आप ने इस लेख के जरिए SEO क्या है? के बारे में पढ़ा है। और इसके साथ ही किसी भी वेबसाइट/ब्लॉग का Seo कैसे करें। ये भी जानकारी प्राप्त की है। उम्मीद करते है। अब आप जान चुके होंगे, कि Seo क्या है। और आप इस जानकारी से लाभ प्राप्त कर सकेंगे। अगर फिर भी आपका कोई Seo क्या है से जुड़ा सवाल हो तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।

FAQs Of [SEO क्या है?]

Q. – SEO क्या है ?
A. – SEO की फुल फॉर्म सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन है यह एक ऐसी तकनीक है। जिसको हम अपने ब्लॉग या वेबसाइट की पोस्ट या अन्य सामग्री गूगल सर्च इंजन या फिर किसी अन्य सर्च इंजन में अपने किसी कीवर्ड के आधार पर आधारित आर्टिकल को गूगल सर्च रिजल्ट की टॉप पोजीशन में लाने के लिए करते हैं। अब आप समझ गए होंगे कि SEO क्या है ?

Q. – किसी ब्लॉग या वेबसाइट का SEO कैसे होता है?
A. – किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के होमपेज अन्य प्रकार की पोस्ट और सामग्री के लिए निर्धारित किए गए कीवर्ड हो सही तरीके से इंप्लीमेंट करते हैं। जिससे कि हमारे द्वारा लिखी गई पोस्ट व अन्य सामग्री गूगल के सर्च इंजन के रिजल्ट में टॉप पोजीशन में आ सके।

Q. – क्या SEO हमेशा बदलता रहता है?
A. – जी बिल्कुल, गूगल सर्च इंजन समय-समय पर अपने एल्गोरिथम को अपडेट करता है। जिससे कि अन्य प्रकार की साइटों पर होने वाले SCAM और BLACK HAT SEO टेक्निक को रोका जा सके। इसलिए गूगल की अपडेट के अनुसार समय-समय पर SEO को इंप्लीमेंट करने का तरीका बदलता रहता है।

Q. – सबसे बेस्ट SEO STRATEGY क्या है?
A. – इसके बारे में कहना थोड़ा मुश्किल होगा। क्योंकि जैसा आपने ऊपर की तरफ पढ़ा है। कि गूगल की समय-समय पर एल्गोरिथ्म अपडेशन की आधार पर SEO कि तकनीक में बदलाव होते रहते हैं। जिसको हम समय-समय पर अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर इंप्लीमेंट करके देख सकते हैं। कोई भी ऐसी तकनीक नहीं है। जिसको हम SEO क्या है की बेस्ट तकनीक कह सकें।

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!