रैम क्या हैं : RAM के प्रकार : RAM/ROM Full Form, RAM in Hindi

रैम क्या हैं | RAM Kya Hai | Ram Memory In Hindi | Ram And Rom Difference In Hindi | रैम कितने प्रकार की होती है | Rom Kya Hoti Hai |Ram Full Form In Hindi | रैम के कार्य

रैम क्या हैं – आज के युग में हर क्षेत्र में लगभग कंप्यूटर बहुत तेज़ी के साथ उपयोग हो रहा है।चाहे आप किसी भी क्षेत्र में देख लो।लेकिन आप कंप्यूटर के प्रयोग करने साथ कंप्यूटर के भागों के बारे में भी पता होना चाहिए।आज हम कंप्यूटर के ऐसे ही एक भाग के बारे में जानेंगे। (what is ram in hindi). जिसको हम किसी कंप्यूटर या स्मार्ट device की RAM कहते है।आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे की RAM क्या है? और RAM कितने प्रकार की होती है? और RAM कैसे काम करती है? रैम RAM की क्या विशेषताएं और उपयोग है? RAM kya hai के बारे में पूरी जानकारी के लिए इस लेख को अंत तक पढ़े।

रैम क्या है – RAM In Hindi 

रैम (रैंडम एक्सेस मेमोरी) आपके कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण हार्डवेयर की एक इकाई है। RAM के बिना आपका कंप्यूटर या कोई भी स्मार्ट device काम नहीं करेगा। आपके कंप्यूटर या स्मार्ट device मे RAM की मात्रा ही निर्धारित करती है कि आपका कंप्यूटर कितनी स्पीड और परफॉर्मेंस देगा।अगर आपके कंप्यूटर कि ram कम है तो जब भी आप कंप्यूटर में कुछ भी करने का प्रयास करते हैं तो आपके कंप्यूटर की स्पीड slow या फिर हैंग होने जैसी समस्या आएगी है।

 

ram kya hai

RAM क्या करता है? और RAM का उपयोग किस लिए किया जाता है? इस को समझने के लिए हम आगे लेख में चर्चा करेंगे। जो की RAM के बारे में आपके लिए जानकारी उपयोगी साबित होगी। RAM कंप्यूटर की शॉर्ट-टर्म मेमोरी की तरह है, और आपके पास जितना अधिक होगा, उतना ही बेहतर होगा। किसी कंप्यूटर यूजर और आपके कंप्यूटर के लिए।

RAM Full Form 

RAM Full Form Is ”Random Access Memory” 

ROM Full Form

ROM Full Form is ”Read Only Memory”

रैम RAM का मतलब रैंडम एक्सेस मेमोरी होता है। और यह कंप्यूटर का शॉर्ट-टर्म स्टोरेज कंपोनेंट (या मेमोरी) है। RAM के अंदर आपके द्वारा वर्तमान में उपयोग की जा रही वेबसाइट से लेकर स्क्रीन के एक तरफ से दूसरी तरफ माउस की गति के लिए जो भी प्रोसेस होता है। वो सभी डेटा RAM में रहता है। लेकिन ये अस्थाई तौर पर सेव होता है। इस प्रकार RAM अस्थायी रूप से सूचनाओं को संग्रहीत करता है। ताकि इसे फिर से पाया और जल्दी से एक्सेस किया जा सके।

RAM का क्या काम होता है – Work Of RAM In Hindi

रैम RAM वह सभी डेटा रखता है। जिसके साथ आप सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं। और आप ram इस वर्तमान समय में चल रहे कंप्यूटर डाटा को स्टोर रखती है। लेकिन स्थाई तौर पर ही। यह रैंडम एक्सेस है। RAM सीधे आपके कंप्यूटर के मदरबोर्ड से जुड़ा होता है। जिससे सबसे तेज़ गति संभव हो पाती है। आपके पास जितनी अधिक RAM होगी, आपका कंप्यूटर उतना ही बेहतर प्रदर्शन करेगा।

जब भी आप अपने कंप्यूटर पर कुछ भी करते हैं। तो बहुत सी प्रक्रियाएं सक्रिय होती हैं। एक वाक्य टाइप करें, एक फ़ाइल सेव करें, एक टैब खोलें, Ram कई कामों का डाटा real time में रीड और access करती है। यही रैम का काम है। HDDs के विपरीत, रैंडम एक्सेस मेमोरी को एक समय में केवल छोटे डेटा के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

आपका ऑपरेटिंग सिस्टम आपकी रैम की क्षमता के हिसाब से डाटा को आउटपुट देता है। कुछ फक्शन हर समय काम कर रहे हैं। तब भी जब उनकी कोई भी की आवश्यकता नहीं है।

रैम क्यों जरूरी है? 

रैम की इंटरकनेक्टेडनेस (interconnectedness) इसे जितनी जल्दी हो सके डेटा को संभालने देती है। “रैंडम एक्सेस” का मतलब है कि आप रैम में किसी भी स्थान पर जल्दी पहुँच सकते हैं। रैम प्रोसेसर के उपर कमांड देता है, यही वजह है कि आपका प्रोसेसर कार्यों को तुरंत कर सकता है।

Random Access Memory In Hindi

RAM kya hai?, RAM एक ऐसा कंपोनेंट है। जिसका उपयोग आप अपने कंप्यूटर पर कुछ भी करने के लिए करते हैं। आप अपनी हार्ड ड्राइव की सामग्री के माध्यम से भी ब्राउज़ कर सकते हैं। और फ़ोल्डर्स और फाइलों के माध्यम से देख सकते हैं। लेकिन इनमें से किसी भी फाइल को खोलने का मतलब है। कि किसी भी कंप्यूटर डाटा को ram के द्वारा access करना उसे रैम उस access डेटा को नैनोसेकंड में पढ़ा और लिखा जा सकता है।

जब आप किसी Microsoft Word फ़ाइल को एडिट करते हैं। तो आप सोच सकते हैं। कि आप अपनी हार्ड ड्राइव के फ़ोल्डरों के अंदर गहराई से काम कर रहे हैं। लेकिन जहां तक ​​कंप्यूटिंग का सवाल है। हार्ड ड्राइव आपके वर्कस्टेशन से अलग होती है। RAM आपके लिए आवश्यक जानकारी को आपके प्रोसेसर के सामने रखता है।

क्या आपने कभी एक साथ इतने सारे प्रोग्राम खोले हैं। कि आपका कंप्यूटर क्रॉल करने की गति को धीमा कर दे? इस तरह से कंप्यूटर हर समय slow रहेगा। अगर कंप्यूटर पूरी तरह से अपनी हार्ड ड्राइव पर निर्भर रहना पड़े। क्या होगा यदि आपने अपने कंप्यूटर को बिना RAM के बूट करने का प्रयास किया? उस स्तिथि में कंप्यूटर आपको एक error का मैसेज शो करा देगा। क्योंकि इसे चलाने का कोई मतलब नहीं होगा बिना RAM के।

RAM कितने प्रकार की होती है – Types Of RAM in Hindi

1. Primary Memory

2. Secondary Memory

Ram In Hindi

Primary Memory In Hindi

प्राइमरी स्टोरेज (मुख्य मेमोरी के रूप में भी जाना जाता है) कंप्यूटर का वह घटक है जिसमें डेटा, प्रोग्राम और निर्देश होते हैं जो वर्तमान में उपयोग में हैं। प्राइमरी स्टोरेज मदरबोर्ड पर स्थित होता है। नतीजतन, डेटा को प्राथमिक भंडारण से बहुत जल्दी पढ़ा और लिखा जा सकता है।

Primary Memory – प्रामेरी मेमोरी दो प्रकार की होती है।

RAM (Random Access Memory)

ROM (Read-only memory)

Secondary Memory In Hindi

सेकेंडरी मेमोरी को एक्सटर्नल मेमोरी भी कहा जाता है और यह विभिन्न स्टोरेज मीडिया को संदर्भित करता है जिस पर कंप्यूटर डेटा और प्रोग्राम स्टोर कर सकता है। सेकेंडरी स्टोरेज मीडिया को फिक्स्ड या रिमूवेबल किया जा सकता है। फिक्स्ड स्टोरेज मीडिया हार्ड डिस्क की तरह एक इंटरनल स्टोरेज माध्यम है जो कंप्यूटर के अंदर फिक्स होता है।

रैम के प्रकार – Types Of RAM

RAM Kya Hai

DRAM ( Dynamic Random Access Memory) 

मेमोरी का मुख्य इस प्रकार है। जिसके बारे में हम बात कर रहे हैं।

DRAM पर डेटा बहुत ही हाई कैपेसिटर के अंदर विद्युत आवेशों के रूप में मौजूद होता है। DRAM को बिजली से जुड़े रहने की जरूरत होती है ताकि कैपेसिटर को बार-बार रिफ्रेश किया जा सके। जब पॉवर काट दी जाती है, तो विद्युत आवेश समाप्त हो जाते हैं और RAM डेटा से खाली हो जाती है।

SRAM Memory (Static Random Access Memory)

SDRAM सिंक्रोनस डायनेमिक रैम के लिए भी सही है। लेकिन SDRAM सिस्टम क्लॉक के लिए सेट किया गया है। इस मेमोरी को सिस्टम क्लॉक में सिंक करने से मेमोरी तेज हो जाती है। और कंप्यूटर एक बेहतर परफॉर्मेंस और गति प्रदान करता है।

DDR RAM यह एक नई तकनीक है। जो पल्स (या साइन वेव) के नीचे के हिस्से से गुजरने वाले डेटा को भेजने की सुविधा देती है। DDR के साथ, प्रत्येक डेटा दो बार भेजा जाता है, इसलिए आपको गति मिलती है जो दोगुनी तेज होती है।

RAM Kya Hai

DDR2 RAM 

इस तरह को RAM अधिक डाटा को भेजने की अनुमति देता है। और यह बैंडविड्थ DDR की प्रत्येक नई पीढ़ी के साथ बढ़ जाती है। हमारे अधिकांश कंप्यूटर वर्तमान में DDR4 के साथ काम कर रहे हैं। डीडीआर2 RAm का एक और फायदा है कि ये कम वोल्टेज आवश्यकताओं के कारण कम बिजली की खपत करती हैं।

कंप्यूटर में कौन सी RAM यूज होती है?

लेटेस्ट जेनरेशन के कंप्यूटर DDR4 RAM का उपयोग होता है। आजकल अधिकांश कंप्यूटरों में यही है। यह रैम छोटे छोटे कैपेसिटर से बनी होती है। जो लगातार वोल्टेज से सक्रिय रहते हैं। ताकि वे अपने एक बिट डेटा को याद रख सकें।

SRAM

SRAM, या स्टैटिक रैंडम एक्सेस मेमोरी RAM होती है। इस प्रकार की RAM को अभी भी निरंतर पॉवर की आवश्यकता होती है, लेकिन अंदर के कैपेसिटर को लगातार रिचार्ज करने की आवश्यकता नहीं होती है। जब तक आपका कंप्यूटर ओन रहेगा ये ram तब तक आपके डाटा को स्टोर रखती है।जैसे ही कंप्यूटर आपने ऑफ हुआ तब आपका वर्तमान डाटा अपने आप ही ख़तम हो जाता है ।

VRAM

V रैम एक ऐसी RAM हैं। जिसमें कंप्यूटर पर काम कर रहे डाटा को साथ के साथ access कर लेती है। यह आपके ग्राफिक्स कार्ड पर लोड होता है। और इमेज डेटा में माहिर है। ज्यादा VRAM का मतलब है। कि एक बार में अधिक ग्राफिक्स लोड किए जा सकते हैं। ये ram gaming कंप्यूटर के लिए अधिक उपयोगी होती है। आपके गेम के ग्राफिक्स तेजी से प्रस्तुत होंगे। आपका गेमिंग ग्राफिक्स VRAM के साथ अच्छा परफॉर्मेंस देगा। VRAM आपके कंप्यूटर सिस्टम और डिस्प्ले मॉनिटर के बीच एक बफर का काम करता है।

Ram and Rom Difference In Hindi

RAM एक कंप्यूटर की शॉर्ट-टर्म मेमोरी है। जो आपके डाटा को कुछ समय के लिए सेव करती है। जब आपका कंप्यूटर चालू होता है। और सामान्य भंडारण की जगह है। जहाँ जानकारी बड़ी मात्रा में संग्रहीत की जाती है। RAM और ROM दो समान शब्द है। आप को इन शब्दों को समझने में परेशानी हो सकती है। इस लिए इन को बारीकी से समझे । RAM और ROM क्या है? वास्तव में, वे दो पूरी तरह से अलग प्रकार की चीजें हैं।

रोम क्या है ? ROM in Hindi

ROM, या रीड-ओनली मेमोरी, सीधे मदरबोर्ड पर स्थित डेटा है। जो कंप्यूटर को बताता है। कि कैसे काम करना है। जब आपका कंप्यूटर चालू होता है। तो यह पहली चीज़ होती है।

रोम क्या है ROM in Hindi

और यह आपके कंप्यूटर का सबसे आवश्यक डेटा होता है। क्योंकि इसके बिना कुछ भी पहुंच योग्य या उपयोग योग्य नहीं होता है। ROM को बदला नहीं जा सकता – इसलिए इसे केवल पढ़ने के लिए इस्तेमाल किया कहा जाता है। इसके विपरीत, RAM वह जगह है जहाँ डेटा को लगातार बदला जा रहा ह

RAM का क्या उपयोग है?

  • RAM हमारे स्टोरेज सिस्टम से अलग होती है। ये आपके HDD और आपके SSD हैं।
  • वे फ़ोल्डर जहां आपके सभी दस्तावेज़ स्टोर रेहतें है। जब आप कोई फ़ाइल सेव करते हैं, तो आप उस डाटा की एक कॉपी RAM से अपनी हार्ड डिस्क ड्राइव में सेव हो जाती है।
  • रैम RAM जैसी वोलेटाइल मेमोरी हमेशा पावर से जुड़ी रहती है। ऐसा इसलिए है, ताकि प्रत्येक मेमोरी सेल के इलेक्ट्रिकल चार्ज को आवश्यकतानुसार रिफिल किया जा सके।
  • Ram का इलेकट्रोमैगनेटिक  रिसाव वास्तव में रैम जितनी तेजी से काम करता है। उतनी ही तेजी से काम करता है।
  • लगातार बिजली आने के साथ, रैम को सबसे मजबूत निर्माण की आवश्यकता नहीं होती है। जिससे डेटा अधिक तेज़ी से सुलभ हो जाता है।
  • यह शीघ्र पहुंचे सीधे डेटा के साथ काम करने के लिए fitted होता है।
  • RAM स्टोरेज यह निर्धारित करता है। कि एक ही समय में कितने प्रोग्राम और फाइलें खोली जा सकती हैं।
  • हम अपना अधिकांश कंप्यूटर समय मल्टीटास्किंग में बिताते हैं, और हमें जल्दी से प्रतिक्रिया देने के लिए कंप्यूटर की आवश्यकता होती है।
  • इसलिए पर्याप्त RAM होना जरूरी है।

अच्छे कंप्यूटर के लिए कितनी RAM चाहिए?

आपको कितनी RAM की आवश्यकता है। यह इस बात पर निर्भर करता है। कि आप कंप्यूटर के साथ क्या क्या काम करते हैं। यह इस बारे में नहीं है। कि आपका कंप्यूटर पूर्ण रूप से कितना Powerful है। यह इस बारे में है। कि आप इसका क्या उपयोग कर रहे हैं। Word और Excel का उपयोग करने वाले अधिकांश व्यक्तिगत और कार्य कंप्यूटर 8 GB सिस्टम मेमोरी के साथ एक अच्छी performance प्रदान करते है। आप अपने RAM की अवस्था देखने के लिए विंडोज टास्क मैनेजर का उपयोग यह कर सकते हैं। कि आपकी रैम ओवरलोड हो रही है या नहीं।

CALCULATION

तो आज हमने कंप्यूटर कि RAM के बारे में जाना है। की RAM Kya Hai ?, RAM  Full Form अगर आपका RAM क्या है ?  या रैम क्या होती है?, रैम के उपयोग, रैम की जानकारी, रैम के प्रकार  से संबधित कोई भी प्रश्न हो तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।

RAM MEMORY FAQ’s

Q. – रेम का क्या उपयोग है?
A. – RAM की फुल फॉर्म Random Access Memory होती है। इसे Main Memory भी कहते हैं. RAM में CPU द्वारा वर्तमान में किये जा रहे कार्यों का डाटा और निर्देश स्टोर रहते हैं। और रैम के अंदर छोटे छोटे माइक्रो सेल लगे होते है। CPU इन Cells से अलग-अलग डाटा प्राप्त कर सकता है।

Q. – ROM कितने प्रकार के हैं?
A. – आमतौर पर रोम 4 प्रकार की होती है। जिनको हम किसी भी कंप्यूटिंग devices में प्रयोग करते है। और रोम के नाम इस प्रकर है।

  • MROM (Masked Read Only Memory) मास्क्ड रेड ओनली मेमोरी
  • PROM (Programmable Read-Only Memory) प्रोग्रामेबल रीड ओनली मेमोरी
  • EPROM (Erasable and Programmable Read-Only Memory) इरेसबल एंड प्रोग्रामब्ले रीड ओनली मेमोरी
  • EEPROM (Electrically Erasable and Programmable Read-Only Memory) इलेक्ट्रिकली इरेसबल एंड प्रोग्रामब्ले रीड ओनली मेमोरी

Q. – रोम का क्या कार्य है?
A. – ROM का मतलब केवल पढ़ने के लिए मेमोरी(Read Only Memory) है। इसका उपयोग कंप्यूटर में हम जो भी निर्देश देते है। उन निर्देशों को स्टार्ट अप करने के लिए और निर्देशों को स्टोर करने के लिए किया जाता है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!