FasTag क्या है ? FasTag के फायदे और कैसे बनवाए? FasTag रीचार्ज कैसे करवाए

FasTag क्या है ? FasTag के फायदे और कैसे बनवाए ?|what is FasTag | Benefits of FasTag | how to make FasTag |

आज लगभग पूरे भारत में रोड टैक्स लेने के लिए टोल प्लाजा स्थापित किए जा चुके है। जिस से सरकार हमारे लिए रोड बनाने व राजमार्गो का रखरखाव करती है। टोल टैक्स पर टैक्स देने के लिए पहले मैनुअल तरीका होता था। जब भी आप 3 पहिया से उपर का वाहन टोल के पार ले जाते है। तो आप को कैश पैसे दे कर टैक्स देना होता था। जो कि दिए गए टैक्स की रकम टोल प्लाजा अथॉरिटी की रशीद या पर्ची में लिखी होती थी।

जो हमे टैक्स देते समय दी जाती थी। लेकिन अब ऑनलाइन टोल टैक्स प्रक्रिया चालू हो गई है। फास्ट को सबसे पहले 2 से 3 बड़े राज्यो में लागू किया गया था। जहां पर हमेशा ट्रैफिक जाम देखने को मिलता था। जो कि मुंबई और अहमदाबाद थे उसके बाद धीरे धीर और राज्यो में भी उस लागू किए और 2020 के बाद इस पूरे देश में अनिवार्य किया गया। जिस के बारे में हम पूरी तरह से चर्चा और पढेगे।

टोल टैक्स क्या होता है ?

टोल टैक्स एक तरह का वाहन टैक्स होता है। जब भी हम अपने किसी 3 पहिया से उपर के वाहन को सड़क पर चलते है।तो हमे राष्ट्रीय राजमार्ग पर चलने का शुल्क देना होता है। और ये अलग अलग राष्ट्रीय राजमार्गो पर देना होता है। जो टैक्स की सीमा निर्धारित करती है।

किस रूट पर कितना टैक्स देना होगा। और कितनी दूरी तय करने पर देना होगा। ये शुल्क राष्ट्रीय राजमार्गो के रखरखाव के लिए निश्चित की गई कम्पनी को देना होता है। जिनके पास उस राजमार्ग का टेंडर होता है। वहीं कम्पनी उस राष्ट्रीय राजमार्ग पर अपना टोल प्लाजा बूथ लगती है। जिस से कम्पनी आने जाने वाहन से शुल्क ले सके।

FasTag क्या होता है?

फास्ट टैग एक तरह का डिजिटल नंबर होता है। जिसको वाहन के windscreen पर लगाया जाता है। और जब भी आपका वाहन टोल प्लाजा बूथ को पर करता है। तो टोल प्लाजा पर लगे स्कैनर आपके वाहन पर लगे फास्ट टैग को स्कैन कर लेते है।और आपका टैक्स ऑटोमैटिक आपके फास्ट टैग से काट लिया जाता है। क्यूंकि FasTag में बैलेंस होता है। जिसको हम रीचार्ज करते है। ये बिलकुल सिम prepaid की ही तकनीक पर काम करता है।

फास्ट टैग आपका टोल टैक्स देने के लिए ऑटोमैटिक स्कैनर कार्ड होता है।

FasTag कहां से बनवाएं ?

Fas Tag को बनाने के बहुत से विकल्प है।

POS – सरकार ने घोषणा कि है। कि वहां मालिक किसी भी टोल पर जा कर अपना Fastag बनवा सकते है। सरकार ने टोल केंद्रों POS यानी point of sell केंद्रों पर जा कर कुछ ही समय में अपना FasTag प्राप्त कर सकते है।

2 निश्चित किए गए बैंक से –

सरकार ने FasTag को लेकर 25 से 30 बैंक को निश्चित किया है। जो वाहन के इस कार्ड को बनाते है वहां मालिक अपने FasTag  बनवाने के लिए अपने जरूरी दस्तावेज दे। कर इसे बनवा सकते है।

3 ऑनलाइन FasTag –

आप ऑनलाइन शॉपिंग साइट से भी अपना Fas Tag कार्ड मंगवा सकते है। जिसको आप खुद ऑनलाइन नेट बैंकिंग से रीचार्ज करके सक्रिय कर सकते है। और उस कार्ड में अपने वाहन की पूरी जानकारी भर सकते है।

FasTag को बनवाने के लिए क्या दस्तावेज चाहिए?

Fast Tag को बनवाने के लिए जरूरी दस्तावेज इस प्रकार है।

1 वाहन का पंजीकरण पत्र (आरसी)

इसको बनाने के लिए वाहन की आरसी होनी चाहिए। जिसमें आपके वाहन की पूरी जानकारी हो, जिस के हिसाब वाहन की जानकारी को Fastag के साथ जोड़ा जाता है। जिस के हिसाब से आपके वाहन की कैंपेसिटी और व्हील के लिए शुल्क तय होगा।

2 वाहन मालिक के एड्रेस और आईडी प्रूफ –

Fastag के पंजीकरण के लिए वाहन मालिक के एड्रेस और एक आईडी प्रूफ भी चाहिए होते है। जिस से कार्ड को पंजीकृत करने के लिए वाहन के मालिक का पता भरना जरूरी होता है। इस एड्रेस प्रूफ में रिहाशी प्रमाण पत्र अथवा कोई भी बिजली का बिल शामिल होगा और आईडी प्रूफ में आप अपना आधार कार्ड भी से सकते है।

3 वाहन मालिक की बैंक डिटेल –

Fastag को वाहन के मालिक के बैंक एकाउंट से अटैच भी किया जाता है। जिसके लिए वाहन मालिक की बैंक कि डिटेल भारी जाती है। जिस से की भविष्य में आप खुद इसको ने बैंकिंग या बैंक से रीचार्ज कर सकते है।

Fas Tag के क्या क्या फायदे है ?

जब से FasTag आया है। तब से टोल प्लाजा और वाहन चालकों की बहुत सी परेशानियां हल हुई है। जो कि इस प्रकार है।

1 टूल प्लाजा पर लगने वाले ट्रैफिक जाम से छुटकारा Fastag ने दिया है। कुछ समय पहले जब टोल टैक्स हम लाइन में लगकर देते थे। उस वक़्त टोल टैक्स के छुट्टे पैसों के चक्कर में बहुत समय लगता था। जिस के लिए पीछे वाहनों का नाम लग जाता था। और ये बड़े राष्ट्रीय राजमार्गो पर देखने को या ज्यादा ट्रैफिक वाले राजमार्गो पर हमेशा होता था।

2 समय की बचत – FasTag की वजह से अब आप को कहीं भी जाना हो। तो आपको टोल प्लाजा पर लगने वाले ट्रैफिक जाम की चिंता नहीं होगी, क्यूंकि अब ट्रैफिक काम टोल प्लाजा पर नहीं मिलेगा। जिस से आपके समय की बचत होगी। और आप अपनी मंजिल पर बहुत ही सीमित समय में पहुंच सकते हो।

Benefits –

3 प्रदूषण में कमी – कुछ समय आप जब भी टोल पर जाते थे। तो लाइन में लगे वाहन काफी देर तक स्टार्ट रहते थे। जिस से फ्यूल की बरबादी और प्रदूषण में भी इजाफा होता था। क्यूंकि टोल पर जाम की स्थिति बन जाती थी। लेकिन fastag से ये समस्या से निजात मिली है।

4 टोल प्लाजा वालों की भी परेशानियां कम हुई है। पहले टैक्स लेने के लिए उन्हें कैश कर्मी रखने पड़ते थे। लेकिन अब टैक्स ऑटोमैटिक कट होता है।

5 कैशबैक की सुविधा भी हमें FasTag से मिलती है। जब भी हमारा टोल शुल्क इस कार्ड से कट होगा, तो हमे कुछ ना कुछ राशि कैशबैक के रूप में वापिस आती है।

6 एसएमएस अलर्ट अपडेट – जब भी हमारा वाहन कोई भी मांग कर के जाता है। हमे नहीं पता होता है, कि इस वक़्त हमारा वाहन कहां होगा। लेकिन जब भी आपका वाहन टोल से गुजरेगा तो, आपके रजिस्टर्ड मोबाइल पर एसएमएस आएगा। जिसमे उस टोल की लोकेशन और FasTag से कटी राशि का ब्योरा होगा। जिसकी आपको जानकारी दी जाएगी।

FasTag FAQ??????

FasTag को कब से अनिवार्य किया गया?

Fastag को February 2021 से पूरे देश में लागू किया गया । अब पूरे देश में टोल भुगतान FasTag से ही होगा।

फास्ट टैग कितने का है ?

सरकार द्वारा PSO के तहत कुछ समय फास्ट टैग Free था। जिसके रीचार्ज के पैसे देने होते थे। लेकिन अब किसी भी बैंक से आप इस 100 से 200 रुपए में प्राप्त कर सकते है।

FasTag का क्या मतलब है ?

एक तरह का prepaid कार्ड होता है। जो कि आपके वाहन के फ्रंट शीशे के अंदर लगता है। और ये रेडियो फ्रीक्वेंसी सिंगनल पर काम करता है। जब भी आप टोल प्लाजा पर जाते है। तो टोल प्लाजा पर लगे सेंसर आपके इस कार्ड को स्कैन कर के आप के FasTag खाते से टोल शुल्क ऑटोमैटिक कट जाता है।

FasTag को रीचार्ज कैसे करवाए ?

इसको रीचार्ज करने के बहुत से तरीक़े है।

1 नेट बैंकिंग –

फास्ट टैग को आप खुद ऑनलाइन नेट बैंकिंग से रीचार्ज कर सकते है। या फिर आप अपने बैंक में जा कर के भी उसे रीचार्ज करवा सकते है।

2 PSO – TOLL

प्लाजा पर बने PSO पर भी बने अपने इस टैग को रीचार्ज करवा सकते है। या टोल प्लाजा की साइट में बैठे थर्ड पार्टी एजेंसी से भी आप इसे रीचार्ज कर सकते है।

तो दोस्तों आज हमने आपको FasTag पालिसी के बारे में विस्तारपूर्वक बताने की कोशिश की है। अगर इससे सम्बन्धित कोई आपका सवाल हो तो हमे कमेंट बॉक्स में जरूर भेजे।

 

अन्य लेख भी पढ़े :-

 

परिवार पहचान पत्र क्या है ?

प्रधाममंत्री आयुष्मान भारत योजना क्या है ?

नयी व्हीक्ल स्क्रैप पालिसी क्या है 2021 ?

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!