Cloud Computing क्या है : What Is Cloud Computing In Hindi

Cloud Computing क्या है ? | क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रकार | क्लाउड कंप्यूटिंग के उदाहरण | क्लाउड कंप्यूटिंग के लाभ और विशेषताएं | What Is Cloud Computing In Hindi

Cloud Computing क्या है ? -आज के समय में समय समय पर कम्प्यूटिंग के क्षेत्र में नई से नई टेक्नोलॉजी लाई जा रही है। जिस से कम्प्यूटिंग के क्षेत्र में नई क्रांति का संचार हो रहा है। आप की जानकारी के लिए आप को बता दे कि कुछ समय पूर्व कम्प्यूटिंग के क्षेत्र में पुरानी तकनीकों पर सर्वर और डाटाबेस को बनाया गया था। जिसमे बहुत सी असुविधाओं का सामना करना पड़ता था।

लेकिन वर्तमान समय में कम्प्यूटिंग टेक्नोलॉजी में Heavy Performance वाले सर्वर को लाया गया है। जिससे Cloud Computing क्या है ? बारे में आगे आर्टिकल में विस्तारपूर्वक पढ़ेंगे। जिस से कि आप को आधुनिक कम्प्यूटिंग सर्वर के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त हो सके। और आप अपनी कंप्यूटर या इंटरनेट द्वारा संचालित व्यवसाय और कार्य को करने के लिए अच्छे और सुविधाजनक कम्प्यूटिंग सर्वर को चुन सकें।

Table of Contents

Cloud Computing क्या है | What Is Cloud Computing In Hindi

क्लाउड कम्प्यूटिंग [Cloud Computing] एक तरह का कम्प्यूटिंग सर्वर टेक्नोलॉजी है। जिस से कोई भी यूजर इंटरनेट द्वारा अलग अलग तरह की सर्विसेज को यूज कर पाते है। जैसे कि यूजर अपने किसी डाटा या सॉफ्टवेयर को क्लाउड सर्वर पर स्टोर करते है। और उस डाटा को यूजर कहीं से भी इंटरनेट के द्वारा access कर सकते है।

उदहारण के तौर पर अगर कोई यूजर अपने कंप्यूटर पर स्टोर किसी भी डाटा या फाइल को सिर्फ अपने कंप्यूटर द्वारा है access कर सकता है। लेकिन क्लाउड कम्प्यूटिंग द्वारा यूजर अपने किसी डाटा या फाइल को क्लाउड सर्वर पर स्टोर करता है। जिसको यूजर इस डाटा को इंटरनेट की मदद से कहीं से भी access कर सकता है।

Cloud Computing क्या है

Cloud Computing के लिए यूजर को क्लाउड सर्वर स्पेस खरीद कर अपने किसी भी डाटा को स्टोर करने के लिए Cloud Computing Company को मासिक या वार्षिक उनके प्लान के हिसाब से शुल्क का भुगतान करना होता है। Cloud Computing तकनीकी कंप्यूटर के क्षेत्र में एक नई क्रांति है। जिसकी यूजर अपनी सुविधानुसार यूज कर सकते है। और इसके साथ ही Cloud Computing में सर्वर की स्पीड और सिक्योरिटी भी अच्छी मिलती है।

आज लाखो के हिसाब से वेबसाइट क्लाउड Hosting सर्वर पर ही Hosted है। जिस कि कम कीमत पर Cloud सर्वर की अच्छी स्पीड मिलती है। जिस से कि यूजर की वेबसाइट को विजिटर द्वारा आसानी से और तेज़ी के साथ खोला जा सकता है। अब आपको समझ आ गया होगा कि Cloud Computing क्या है ?

Cloud Computing के उदाहरण – Examples Of Cloud Computing In Hindi

आज हर यूजर सोशल मीडिया का यूज कर रहा है। जिसमे हर सोशल मीडिया के हर प्लेटफॉर्म पर अरबों में यूजर यूजर आते है। और बहुत भारी मात्रा में डाटा स्टोर करना पड़ता है। तो ये सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म भी क्लाउड कम्प्यूटिंग सर्वर का ही यूज करते है। इसी कारण इन सोशल प्लेटफार्मों को यूजर बहुत की तेज़ी और बिना किसी सर्वर एरर के access करते है। तो अब हम आपको क्लाउड कम्प्यूटिंग के कुछ मुख्य और बड़े उदाहरण बताएंगे। जिस से कि आप समझ पाएंगे। कि क्लाउड कम्प्यूटिंग सर्वर कितने शक्तिशाली होते है।

फेसबुक –

फ़ेसबुक पर करोड़ों, अरबों के हिसाब से दुनिया भर के यूजर के अकाउंट बने है। और हर यूजर द्वारा अपना किसी ना किसी प्रकार फेसबुक पर डाटा डाला होता है। चाहे वो यूजर प्रोफाइल हो, या फिर यूजर द्वारा वीडियो, ऑडियो इतियादी हो।

Facebook cloud computing

इतने बड़े डाटा को स्टोर और प्रोसेस करने के लिए क्लाउड कम्प्यूटिंग सर्वर का यूज करती है। जिस से की हर यूजर का डाटा और प्रोफ़ाइल सुरक्षित और फास्ट access हो सके।

YouTube –

इसी प्रकार यूट्यूब पर भी फेसबुक की तरह ही यूजर बहुत ज्यादा मात्रा में वीडियो अपलोड करते है। और अरबों की संख्या में यूजर यूट्यूब वीडियो को देखते है।

Youtube cloud computing

इतने बड़े वीडियो डाटा को स्टोर और access करने के लिए YouTube भी वर्तमान समय में क्लाउड कम्प्यूटिंग सर्वर का इस्तेमाल कर रहा है।

ईमेल –

जैसे कि आपको पता होगा कि आज के समय में लगभग हर यूजर ईमेल को यूजर कर रहा है। बहुत सी ईमेल कंपनियां जैसे Gmail, Rediff, Yahoo भी यूजर को ईमेल इंफॉर्मेशन और ईमेल डाटा को स्टोर और प्रोसेस करने के लिए क्लाउड कम्प्यूटिंग सर्वर का ही यूज कर रही है।

email-cloud-computing

जिस की हर यूजर की ईमेल का डाटा सुरक्षित और फास्ट प्रोसेस हो सके।

क्लाउड कंप्यूटिंग का इतिहास – [History Of Cloud Computing In Hindi]

कंप्यूटिंग के क्षेत्र में आने से पहले क्लाइंट सर्वर आर्किटेक्चर का उपयोग किया जाता था। जहां क्लाइंट का सारा डेटा और नियंत्रण सर्वर साइड में रहता है। यदि कोई एकल उपयोगकर्ता कुछ डेटा का उपयोग करना चाहता था। तो सबसे पहले उपयोगकर्ता को सर्वर से कनेक्ट करने की आवश्यकता होती है। और उसके बाद उपयोगकर्ता को डाटा इंफॉर्मेशन प्राप्त होती थी। लेकिन इसके कई नुकसान भी थे। और किसी भी डाटा को access करने में असुविधा होती थी।

इसलिए क्लाइंट सर्वर कंप्यूटिंग के बाद डिस्ट्रीब्यूटेड कंप्यूटिंग के क्षेत्र में आई। इस प्रकार की कंप्यूटिंग में सभी कंप्यूटरों को एक साथ नेटवर्क किया जाता है। जिसकी मदद से उपयोगकर्ता जरूरत पड़ने पर अपने संसाधनों को साझा कर सकता है। इस कम्प्यूटिंग सर्वर की कुछ लिमिटेड बाउंडेशन होती थी। तो इस सर्वर प्रणाली में आने वाली सीमाओं को दूर करने के लिए क्लाउड कंप्यूटिंग की शुरुआत हुई।

History Of Cloud Computing In Hindi

सन 1961 के दौरान जॉन मैकचार्टी ने MIT में अपना भाषण दिया कि “कम्प्यूटिंग को पानी और बिजली की तरह एक उपयोगिता के रूप में बेचा जा सकता है”। लेकिन उस समय के लोग इस तकनीक को अपनाना नहीं चाहते। उन्होंने सोचा कि वे जिस तकनीक का उपयोग कर रहे हैं। वह उनके लिए पर्याप्त है। लेकिन समय के साथ क्लाउड कम्प्यूटिंग के रूप में प्रौद्योगिकी ने इस विचार को पकड़ लिया।

और सन 1999 में क्लाउड कम्प्यूटिंग को Salesforce.com द्वारा संचालित किया गया। इस कंपनी ने इंटरनेट पर एक एंटरप्राइज़ एप्लिकेशन देना शुरू किया और इस तरह क्लाउड कंप्यूटिंग का विस्तार बढ़ने लगा।

Cloud Computing History

और सन 2002 में अमेज़ॅन ने अमेज़ॅन वेब सर्विसेज AWS (एडब्ल्यूएस) शुरू कर दी। अमेज़ॅन इंटरनेट पर स्टोरेज के लिए उपयोग होने लगा। और सन 2006 में अमेज़ॅन इलास्टिक कंप्यूट क्लाउड कमर्शियल सर्विस लॉन्च कर दिया। जो हर किसी यूजर के उपयोग के लिए यूज होने लगा।

उसके बाद 2009 में Google Play ने भी क्लाउड कंप्यूटिंग एंटरप्राइज एप्लिकेशन प्रदान करना शुरू कर दिया। क्योंकि अन्य कंपनियों क्लाउड कंप्यूटिंग का विस्तार बढ़ाने लगी। उन्होंने भी अपनी क्लाउड सेवाएं प्रदान करना शुरू कर दिया।

इस प्रकार सन 2009 में Microsoft ने Microsoft Azure को लॉन्च कर दिया और उसके बाद अलीबाबा, IBM, Oracle, HP जैसी अन्य कंपनियों ने भी अपनी क्लाउड सेवाएँ देनी शुरू कर दी। आज क्लाउड कंप्यूटिंग बहुत लोकप्रिय और महत्वपूर्ण कौशल बन गया है। इस प्रकार क्लाउड कम्प्यूटिंग का विस्तार हुआ।

Cloud Computing कैसे काम करता है?

क्लाउड कंप्यूटिंग एक एप्लिकेशन-आधारित सॉफ्टवेयर इन्फ्रास्ट्रक्चर है। जो रिमोट सर्विस पर डेटा स्टोर करता है। जिसे इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है। यह समझने के लिए कि क्लाउड कंप्यूटिंग कैसे काम करती है। इसे फ्रंट-एंड और बैकएंड में divide किया गया है।

फ्रंट एंड उपयोगकर्ता को इंटरनेट ब्राउज़र या क्लाउड कंप्यूटिंग सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके क्लाउड में स्टोर डेटा तक पहुंचने में सक्षम बनाता है। हालांकि, क्लाउड कंप्यूटिंग का प्राथमिक – डेटा और सूचना को सुरक्षित रूप से संग्रहीत करने के लिए बैकएंड है। इसमें सर्वर, कंप्यूटर, डेटाबेस और सेंट्रल सर्वर शामिल होते हैं।

सेंट्रल सर्वर प्रोटोकॉल के रूप में ज्ञात नियमों के एक सेट का पालन करके संचालन की सुविधा प्रदान करता है। यह क्लाउड कंप्यूटिंग के माध्यम से जुड़े उपकरणों/कंप्यूटरों के बीच सहज संपर्क सुनिश्चित करने के लिए एक सॉफ्टवेयर, मिडलवेयर का उपयोग करता है।

क्लाउड कंप्यूटिंग आमतौर पर यूजर के डाटा को सुरक्षा खतरों, डेटा हानि, डेटा उल्लंघन आदि की घटनाओं को कम करने के लिए डेटा की कई बैकंड में Copies बनाए रखते हैं। जिसको किसी डाटा की नष्ट होने पर ऑटोमैटिक क्लाउड कम्प्यूटिंग सर्वर द्वारा दोबारा प्राप्त किया जा सकता है।

क्लाउड कम्प्यूटिंग के प्रकार – Types Of Cloud Computing In Hindi

Cloud Computing आमतौर पर चार तरह की होती है। जिनके बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की जाएगी। जो कि इस प्रकार है।

Cloud Computing Types

Public Cloud Computing

क्लाउड कंप्यूटिंग मॉडल के आधार पर एक सार्वजनिक क्लाउड एप्लिकेशन स्टोरेज प्रदान करता है। और इंटरनेट पर विभिन्न प्रकार की क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाएं प्रदान करता है। सार्वजनिक क्लाउड की यूएसपी (USP) है। कि यह वायरलेस या रिमोट नेटवर्क का उपयोग करके एक समय में कई उपयोगकर्ताओं के लिए हार्डवेयर संसाधन का उपयोग करने की अनुमति देता है।
पब्लिक क्लाउड बड़े पैमाने पर दिखने वाले व्यवसायों के लिए फायदेमंद है। क्योंकि इस प्रकार के क्लाउड पर बड़े पैमाने पर संचालन को अच्छी तरह से संभाला जा सकता है। यह क्लाउड क्लाउड कंप्यूटिंग के सबसे अधिक लागत प्रभावी प्रकारों में से एक है। क्लाउड कम्प्यूटिंग कम रखरखाव और बढ़ी हुई विश्वसनीयता को प्रदान करता है।

Private Cloud Computing

विभिन्न प्रकार के क्लाउड कंप्यूटिंग में से यह एक किसी एक यूजर या संगठन के लिए विशेष सेवाएं प्रदान करता है। यह उपयोगकर्ता को सूचना की गोपनीयता और विभिन्न प्रकार की क्लाउड सेवाओं का लाभ उठाने के मामले में बहुत लाभ प्रदान करता है। संचालन और कामकाज के संदर्भ में निजी क्लाउड को डेटा केंद्रों पर स्थापित किया जा सकता है। और इसे दूरस्थ रूप से भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यह इसे अत्यधिक लचीला, संभावित रूप से गुणवक्ता पूर्ण बनाता है। और डेटा सुरक्षा के मामले में उपयोगकर्ता को अधिक नियंत्रण और सुरक्षा के साथ परफॉर्मेंस प्रदान करता है।

Hybrid Cloud Computing

इस प्रकार का क्लाउड कंप्यूटिंग सार्वजनिक और निजी क्लाउड का संयोजन और एकीकरण है। इस तरह यह आपको क्लाउड कंप्यूटिंग में विभिन्न प्रकार के सर्वश्रेष्ठ क्लाउड सर्विसेज प्रदान कर है। यह डेटा ट्रांसफर के मामले में अधिक फ्लेक्सिबिलिटी यूज करने की अनुमति देता है। और एंटरप्राइजेज के परिनियोजन विकल्पों को बढ़ाता है। यह लागत प्रभावी कीमतों पर सब कुछ प्रदान करते हुए नियंत्रण में आसानी सुनिश्चित करता है।

Community Cloud Computing

इस प्रकार के क्लाउड कंप्यूटिंग को एक विशिष्ट Community जैसे व्यवसाय या उद्योग की जरूरतों को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। और इसी से इसका नाम पड़ा है। बिल्कुल उपयुक्त रूप से इस प्रकार के तहत दी जाने वाली विभिन्न क्लाउड सेवाओं को एक समुदाय के सदस्यों द्वारा साझा किया जाता है जो समान लक्ष्य या संचालन साझा करते हैं। और Community Cloud Computing किसी बड़े समुदाय द्वारा संचालित करके यूजर को सर्विसेज प्रदान करता है।

इस क्लाउड कम्प्यूटिंग द्वारा किसी डाटा को किसी बड़े रजिस्टर्ड समूह द्वारा ही access किया जा सकता है। किसी भी प्रकार का बाहरी व्यक्ति इस पर स्टोर डाटा को access नही कर पाता है। ये cloud Computing आम तौर पर किसी बड़े संगठन के कार्य को संचालित करने के लिए डिजाइन किया गया है।

क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज के प्रकार – Services Types Of Cloud Computing In Hindi

क्लाउड कंप्यूटिंग कई प्रकार की सर्विसेज यूजर को प्रदान करती है। जो कि इस प्रकार है।

Infrastructure As A Service (IaaS)

(IaaS) क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाओं का सबसे नीचे स्तर जहां हार्डवेयर संसाधन बाहरी यूजर द्वारा प्रदान किए जाते हैं। और आपके लिए कंंट्रोल होते हैं। IaaS उपयोगकर्ताओं को नेटवर्किंग, प्रोसेसिंग पावर और डेटा स्टोरेज क्षमता जैसे कंप्यूटिंग संसाधनों तक पहुंच प्रदान करता है।

IaaS उपयोगकर्ताओं को हार्डवेयर निवेश या सर्वर प्रबंधन के बिना कंप्यूटिंग शक्ति या आभासी मशीनों का उपयोग करने में मदद करता है। भौतिक रूप से, हार्डवेयर संसाधनों को विभिन्न डेटा केंद्रों में वितरित विभिन्न नेटवर्क और सर्वर से प्राप्त किया जाता है। जो सभी क्लाउड सेवा प्रदाता द्वारा कंट्रोल बनाए रखा जाता है।

Cloud Computing iaas paas saas

 

जिससे IaaS उन यूजर के लिए फायदेमंद है। जो लागत प्रभावी और अत्यधिक स्केलेबल आईटी सॉल्यूशन बनाना चाहते हैं। जहां हार्डवेयर संसाधनों के प्रबंधन में शामिल खर्च और जटिलताओं को एक सेवा प्रदाता को आउटसोर्स किया जाता है।

अधिकांश IaaS पैकेज में सर्वर, नेटवर्किंग, स्टोरेज और वर्चुअलाइजेशन आउटसोर्स शामिल होते हैं। जबकि उपयोगकर्ता डेटाबेस, OS, एप्लिकेशन और सुरक्षा घटकों को स्थापित करने और बनाए रखने के लिए पूर्ण रूप से रिस्पॉन्सिबल होते हैं।

IaaS क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज के उदाहरण

  • Amazon EC2W
  • Windows Azure
  • Rackspace
  • Google Compute Engine

IaaS क्लाउड कंप्यूटिंग Services की विशेषताएं और लाभ

  • सर्विस की पेशकश के रूप में एक विशिष्ट बुनियादी ढांचा समय और धन दोनों की बचत करता है। क्योंकि सेवा प्रदाता द्वारा अंतर्निहित हार्डवेयर सेट अप और समर्थन प्रदान किया जाता है।
  • आवश्यकता पड़ने पर मांग पर रिसोर्सेज उपलब्ध होते हैं। इसलिए किसी भी Unused Resources की बर्बादी नहीं होती है।
  • और किसी भी Resources को जोड़ने में कोई देरी नहीं होती है।
  • यूजर सिर्फ उपयोगिता-आधारित मूल्य निर्धारण मॉडल यानी केवल उन रिसोर्सेज के लिए भुगतान करते है।
  • जिनका आप वास्तव में उपयोग करते हैं।

Platform As A Services (PaaS)

यह क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा IaaS का आधुनिक मॉडल है। केवल आईटी अवसंरचना प्रदान करने के अलावा PaaS एक सेवा के रूप में कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म और समाधान स्टैक भी प्रदान करता है। PaaS एक क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा है। जो डेवलपर्स को एक ढांचा प्रदान करती है।

Cloud Computing iaas paas saas

जिसका उपयोग कस्टम एप्लिकेशन बनाने के लिए किया जा सकता है। एक सेवा के रूप में प्लेटफ़ॉर्म सॉफ़्टवेयर डेवलपर्स को डेटा संग्रहण, डेटा सेवा और प्रबंधन के बारे में बिना किसी बाउंडेशन के ऑनलाइन कस्टम एप्लिकेशन बनाने देता है।

PaaS क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज 

  • होस्टिंग समाधान
  • ओएस
  • डिजाइन और विकास के लिए सॉफ्टवेयर उपकरण।
  • सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग के लिए वातावरण
  • डीबीएमएस
  • नेटवर्क का उपयोग
  • भंडारण [Storage]
  • सर्वर सॉफ्टवेयर
  • सहायता

PaaS क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज के उदाहरण

  • Microsoft Azure
  • AWS इलास्टिक बीनस्टॉक
  • Force.com
  • Salesforce
  • Google App Engine
  • Rackspace Cloud Sites
  • Open Shift
  • Apache Stratos

PaaS क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा की विशेषताएं और लाभ

  • PaaS गैर-विशेषज्ञों के लिए भी सॉफ्टवेयर विकास को आसान बनाता है। क्योंकि कोई भी वेब ब्राउज़र के माध्यम से केवल एक क्लिक कार्यक्षमता के साथ एक एप्लिकेशन विकसित कर सकता है।
  • उपयोगकर्ताओं को बुनियादी ढांचे को अपग्रेड या अपडेट करने की कोई आवश्यकता नहीं है। क्योंकि PaaS सेवा प्रदाता सभी अपडेट पैच, अपग्रेड और नियमित सॉफ़्टवेयर रखरखाव को संभालता है।
  • PaaS यूजर को स्पेस स्वतंत्रता प्रदान करता है। क्योंकि विभिन्न स्थानों में डेवलपर्स एक ही एप्लिकेशन बिल्ड पर एक साथ काम कर सकते हैं।
  • फिजिकली बुनियादी ढांचे या इसे प्रबंधित करने के लिए आवश्यक विशेषज्ञता में निवेश करने की कोई आवश्यकता नहीं है।
  • वर्चुअल आईटी इन्फ्रास्ट्रक्चर किराए पर लेने की क्षमता उपयोगकर्ताओं के लिए लागत से संबंधित बहुत लाभ प्रदान करती है।

Software As A Service (SaaS)

एक विशेष क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा है। जिसमें IaaS और PaaS दोनों सेवा प्रसाद शामिल हैं। SaaS एक क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा है। जो बिजनेस एनालिटिक्स, CRM या मार्केटिंग ऑटोमेशन जैसी विविध व्यावसायिक आवश्यकताओं के अनुरूप एप्लिकेशन-स्तरीय सेवाएं प्रदान करती है। SaaS एक क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा की पेशकश करता है। जो ग्राहकों को ऑन-डिमांड वेब-आधारित सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन प्रदान करती है।

Cloud Computing iaas paas saas

जिससे SaaS आधारित इंटरफ़ेस के माध्यम से एक पूर्ण-कार्यात्मक एप्लिकेशन होस्ट करते हैं। और इसे इंटरनेट के माध्यम से उपयोगकर्ताओं के लिए सुलभ और अधिक सुविधाजनक बनाते हैं। SaaS की पेशकश क्लाउड को सॉफ्टवेयर आर्किटेक्चर के लिए लीवरेज करने की अनुमति देती है।

जिससे समर्थन रखरखाव और संचालन के ऊपरी हिस्से को कम किया जा सकता है। क्योंकि एप्लिकेशन विक्रेता से संबंधित सिस्टम पर चलते हैं। SaaS सबसे परिचित क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा की पेशकश है। क्योंकि उपयोगकर्ता अक्सर नेटफ्लिक्स, जीमेल, जिरा, ड्रॉपबॉक्स, या सेल्सफोर्स जैसे SaaS सर्विसेज का उपयोग करते है।

SaaS एक सदस्यता-आधारित पेशकश करता है। जहां उपयोगकर्ता मासिक आधार पर सॉफ़्टवेयर की सदस्यता लेते हैं। इसके बजाय यदि इसे खरीदते हैं। तो इसमें कोई एडवांस लागत शामिल नहीं होती है। यह उपयोगकर्ताओं को सदस्यता समाप्त करने का प्रावधान भी प्रदान करता है। जब किसी यूजर को इसकी आवश्यकता नहीं रह है।

SaaS क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज के उदाहरण

  • SAP Business By Design
  • Zo ho CRM
  • AppDynamics
  • Microsoft Office 365
  • Pardot Marketing Automation

SaaS क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा की विशेषताएं और लाभ

  • कोई शुरुआती दौर में सेटअप लागत नहीं है। क्योंकि उपयोगकर्ता सदस्यता लेते ही एप्लिकेशन का उपयोग कर सकते हैं। कोई हार्डवेयर लागत भी नहीं है। क्योंकि सर्विस प्रोवाइडर द्वारा प्रोसेसिंग पॉवर की आपूर्ति की जाती है।
  • लचीले भुगतान के रूप में उपयोगकर्ता पे-एज़-यू-गो मॉडल पर सेवाओं के लिए भुगतान करते हैं।
  • सॉफ़्टवेयर के लिए कोई भी अपडेट स्वचालित और निःशुल्क है।
  • SaaS क्रॉस-डिवाइस संगतता प्रदान करता है। क्योंकि SaaS एप्लिकेशन को किसी भी इंटरनेट सक्षम डिवाइस, जैसे लैपटॉप, स्मार्टफोन या डेस्कटॉप के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है।
  • एंटरप्राइजेज एजेंसियों को कार्यालय में कई प्रणालियों पर सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने के लिए एक आईटी विशेषज्ञ को नियुक्त करने की आवश्यकता नहीं है। और न ही प्रत्येक पीसी पर सॉफ्टवेयर को अप-टू-डेट रखने के बारे में चिंता करने की आवश्यकता है।

Functions As A Service (FaaS)

Glass service के रूप में कार्यों को समझने से पहले सर्वर रहित कंप्यूटिंग से जुड़े सबसे लोकप्रिय तकनीकी शब्द को समझना अनिवार्य है। सर्वर रहित कंप्यूटिंग एक क्लाउड कंप्यूटिंग मॉडल है। जो डेवलपर्स से नीचे स्तर के बुनियादी ढांचे के निर्णय और सर्वर प्रबंधन को दूर करता है। एप्लिकेशन आर्किटेक्ट को संसाधनों के आवंटन से निपटने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि यह क्लाउड सेवा प्रदाता द्वारा प्रबंधित किया जाता है।

FaaS एक बिल्कुल नई और बहुत ही युवा क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा है। जो कई व्यवसायों के लिए गेम-चेंजर के रूप में कार्य करती है। यह एक सर्वर रहित कंप्यूटिंग अवधारणा है। जो सॉफ्टवेयर डेवलपर्स को एप्लिकेशन विकसित करने और एक व्यक्तिगत “फ़ंक्शन”, व्यावसायिक सर्वर को बनाए रखने के बिना एक एक्शन को तैनात करने देती है। क्योंकि डेवलपर्स को सर्वर संचालन पर विचार करने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि वे बाहरी रूप से होस्ट किए जाते हैं।

FaaS सर्विस के उदाहरण

  • Google क्लाउड फ़ंक्शन
  • Microsoft Azure फ़ंक्शंस
  • Webtask.io
  • Iron.io
  • ओपन व्हिस्क
  • AWS लैम्ब्डा

FaaS क्लाउड कंप्यूटिंग सेवा की विशेषताएं और लाभ

  • Inactive Resources पर पैसा कभी भी बर्बाद नहीं होता है।
  • क्योंकि उपयोगकर्ताओं को उपयोग की जाने वाली कार्यक्षमता की मात्रा के आधार पर बिल किया जाता है।
  • डेवलपर्स को कुशल बनाता है। क्योंकि वे सर्वर लॉजिस्टिक्स से निपटने के बजाय एप्लिकेशन-विशिष्ट तर्क लिखने पर अधिक ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।
  • यूजर को यूज करने में अधिक सुविधाजनक होता है।

CALCULATION

तो दोस्तों Cloud Computing क्या है ? से जुड़ी कुछ महत्पूर्ण जानकारी प्राप्त कि है। हम आशा करते हैं की आपको Cloud Computing क्या है ? . (what is Cloud computing in hindi) समझ आ गया होगा। दोस्तों आपको ये जानकारी कैसी लगी या आपका Cloud Computing In Hindi किसी भी तरह का कोई प्रश्न हो तो कमेंटबॉक्स में पूछ सकते है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!