बैकलिंक क्या है : Quality बैकलिंक कैसे बनाएं : What Is Backlink In Hindi

बैकलिंक क्या है ? – इसको लेकर बहुत से ब्लॉग और वेबसाइट क्रिएटर जोकि नए होते हैं। वह दिन प्रतिदिन गूगल पर सर्च करते हैं। क्योंकि ब्लॉगर अपने ब्लॉग को सफल बनाने के लिए हर दिन कुछ ना कुछ नया सीखते हैं। जिससे कि उनके ब्लॉग पोस्ट की पोस्ट गूगल सर्च इंजन या फिर किसी अन्य सर्च इंजन में रैंक हो सके। जिससे कि उनके ब्लॉग या वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा ऑर्गेनिक ट्रैफिक आ सके, और ब्लॉग या वेबसाइट के द्वारा एक अच्छी इनकम जनरेट कर सकें, और साथ ही इंटरनेट की दुनिया में अपने ब्लॉग या वेबसाइट को प्रसिद्ध बना सकें।

जब भी कोई नया ब्लॉगर अपने नए ब्लॉक को शुरू करता है। तो उसको बैकलिंक्स बनाने से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं होती है। धीरे धीरे दूसरे ब्लॉग या वेबसाइट को देखकर वह BACKLINK बनाने की कोशिश करता है। जिससे कि वह कई अन्य स्पैमिंग साइटों पर अपने लिंक डाल देते हैं।

 

backlink kya hai

जिससे उनकी वेबसाइट की रैंकिंग में इफेक्ट आता है। इसलिए इस लेख के माध्यम से आज हम आपको बैकलिंक क्या है? और हाई क्वालिटी बैकलिंक कैसे बनाएं ? इत्यादि के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान करेंगे। इसलिए इस लेख (बैकलिंक क्या है) को अंत तक अवश्य पढ़े। ताकि ज्यादा से ज्यादा विजिटर इस जानकारी का लाभ प्राप्त कर सकें।

बैकलिंक क्या है – What Is Backlink In Hindi

बैकलिंक एक तरह के इनबॉउंड लिंक, इनकमिंग लिंक या वनवे लिंक्स के रूप में पहचाने जाते हैं। बैकलिंक आमतौर पर किसी एक वेबसाइट या ब्लॉग को किसी दूसरे वेबसाइट पर अपनी वेबसाइट के होमपेज या फिर किसी अन्य पेज का लिंक दिया होता है। जिससे कि दूसरी वेबसाइट या ब्लॉग पहली वेबसाइट या ब्लॉग जिसका लिंक दिया हुआ है, उसको वोट के तौर पर किसी सर्च इंजन को बताता है।

बैकलिंक क्या है

जिससे कि किसी वेबसाइट के ज्यादा से ज्यादा वेबसाइट पर बैकलिंक होने से उस वेबसाइट की डोमेन अथॉरिटी और पेज अथॉरिटी सर्च इंजन की नजर में बढ़ जाती है। जिससे कि उस वेबसाइट या ब्लॉग की रैंकिंग सर्च इंजन में बढ़ जाती है। जिससे कि उस वेबसाइट जब लोगों पर ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक आने लगता है। गूगल और दूसरे अन्य सर्च इंजन एक किसी वशिष्ठ होम पेज या फिर किसी अन्य पेज के लिए बनाए गए बैकलिंको एक तरह का वोट मानते हैं।

बैकलिंक बनाने क्यों जरूरी है – Importance Of Backlink In SEO

(बैकलिंक क्या है) बैकलिंक एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट के लिए एक तरह के गूगल सर्च इंजन या किसी अन्य सर्च इंजन के लिए वोट के समान होते हैं। इनमें से प्रत्येक बैकलिंक किसी भी सर्च इंजन को यह दर्शाता है। कि यह वेबसाइट या ब्लॉग मूल्यवान विश्वसनीय और उपयोगी सामग्री को यूज़र के लिए प्रदान करता है। किसी भी वेबसाइट के पास जितने ज्यादा बैकलिंक और क्वालिटी बैकलिंक्स होंगे गूगल या अन्य सर्च इंजन में उस वेबसाइट की उतनी ही ज्यादा रैंकिंग संपन्न हो सकेगी। गूगल सर्च इंजन या किसी भी सर्च इंजन ने अपने एल्गोरिथ्म में भले ही बहुत से समय-समय पर बदलाव किए हैं।

लेकिन किसी भी वेबसाइट या ब्लॉक की रैंकिंग को निर्धारित करने के लिए आज के समय में भी बैकलिंक एक अहम रोल निभाता है। गूगल ने एक्सटर्नल बैंक लिंक के बारे में यहां तक पुष्टि की है, कि आज के समय में भी बैकलिंक गूगल के सर्च इंजन के रैंकिंग सिग्नल में 3 सबसे बड़े कारणों में से एक है। इसलिए किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग को किसी भी सर्च इंजन के सर्च रिजल्ट में उच्च रैंकिंग प्रदान करने के लिए बैकलिंक एक प्रमुख फैक्टर माना जाता है। अब आप समझ गए होंगे कि किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग के लिए (बैकलिंक क्या है) बैकलिंक कितने जरूरी है।

बैकलिंक मुख्य कितने प्रकार के होते है?

वैसे तो बैकलिंक 7 से 8 तरह के होते है। जिनके बारे में आगे लेख में चर्चा करेंगे। हर वेबसाइट या ब्लॉग के लिए बैकलिंक मुख्य तौर पर 2 प्रकार होते है।

  • 1 Dofollow Backlink
  • 2 Nofollow Backlink

अब इस दोनों प्रकार के बैकलिंक के बारे में विस्तारपूर्वक बताएंगे। जिस से कि आप Dofollow और Nofollow दोनों तरह के बैकलिंक में फर्क को समझ सके। और आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के लिए अच्छी रेशों में बैकलिंक बनाएं सकें।और अपनी रैंकिंग को Google Search Engine या किसी और Search Engine में इंप्रूव कर सकें। और ब्लॉग या वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा विजिटर ट्रैफिक से अच्छी इनकम कर सके। और इंटरनेट की दुनिया में अपने ब्लॉग या वेबसाइट को पॉपुलर बना सकें।

high quality backlink kaise banaye

Dofollow Backlink क्या है? – Dofollow Backlink In Hindi

एक Dofollow Backlink एक अथॉरिटी को पास करने वाला एक सपोर्टिंग लिंक होता है। जो किसी मुख्य साइट के अधिकार को निर्धारित डेस्टिनेशन साइट पर भेजकर एसईओ के मामले में मदद करता है। Dofollow Backlink द्वारा मुख्य वेबसाइट या ब्लॉग से यूजर किसी निर्धारित डेस्टिनेशन साइट पर जाता है। तो इस लिंक प्रोसेस को “लिंक जूस” भी कहा जाता है। Dofollow Backlink एक तरह किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग के लिए एक वोट की तरह कार्य करता है।

Dofollow Backlink के जरिए मुख्य वेबसाइट या ब्लॉग लिंक की गई वेबसाइट की गूगल सर्च इंजन या फिर किसी और सर्च इंजन को यह दर्शाती है। कि यह साइट सत्यता, कंटेंट डिलीवरी यूजर फ्रेंडली है। और इस साइट पर कंटेंट उपयोगी है। Dofollow Backlinks प्राप्त करने से वेबसाइट के डोमेन रेटिंग और पेज रेटिंग में सुधार करने में मदद मिलेगी।

जिस से गूगल सर्च इंजन में कीवर्ड रैंकिंग में सुधार होता है। और ज्यादा ट्रैफिक increase होता है। आमतौर पर डिफ़ॉल्ट रूप से लिंक Dofollow होते हैं। इसलिए किसी वेबसाइट से लिंक करते समय rel=”dofollow” की कोई आवश्यकता नहीं होती है।

Nofollow Backlink क्या होता है? – Nofollow Backlink In Hindi

एक नोफ़ॉलो लिंक एक without support लिंक होता है। जिसमें किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग के link को एचटीएमएल कोड में एक rel=”nofollow” टैग के साथ पेश किया जाता है। Nofollow Link किसी भी वेबसाइट द्वारा लिंक के माध्यम से ये दर्शाता है। कि इस लिंक द्वारा जोड़ी गई वेबसाइट या ब्लॉग हमारे लिए अनजान है। ये गूगल search engine या फिर किसी और सर्च इंजन को ये बताता है।

Nofollow Link

कि मुख्य वेबसाइट निर्धारित डेस्टिनेशन वेबसाइट की सत्यता और अच्छी छवि के बारे में नहीं जानती है। और इस वेबसाइट या ब्लॉग को किसी भी प्रकार की अथॉरिटी पास नहीं करती है। SEO की दृष्टि से नोफॉलो बैकलिंक की बहुत कम वैल्यू होती है। बैकलिंक की Spaming Comment को ध्यान में रखते हुए Google, Yahoo, MSN द्वारा 2005 में लाया गया था। इस Nofollow Backlink द्वारा किसी भी प्रकार का लिंक जूस पास नहीं होता है।

अन्य लिंक विशेषताएँ

2019 में Google ने दो नई लिंक को लाया है। जो किसी भी अथॉरिटी को पास नहीं करती है। कुछ लिंक की पहचान के तौर पर ये लिंक अलग तरह से काम करते है।
rel = “प्रायोजित” प्रायोजित, संबद्ध या सशुल्क लिंक के लिए उपयोग किया जाता है।
rel=“ugc” उपयोगकर्ता-जनित लिंक जैसे टिप्पणियों या फ़ोरम पोस्ट के लिए उपयोग किया जाता है।
आपको अपने मौजूदा नोफ़ॉलो लिंक्स को बदलने की ज़रूरत नहीं है। rel=”nofollow” विशेषता अभी भी उन सभी लिंक के लिए एक कैटचेल के रूप में काम करती है। जो अथॉरिटी को पारित नहीं करते हैं।

Dofollow Backlink कैसे काम करता है?

कोई भी सर्च इंजन किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग को Dofollow बैकलिंक द्वारा crawl करता है। और देखता है। कि कौन सी साइट किस साइट से लिंक हुई है। ये लिंक एक प्रकार के अथॉरिटी अधिकार को सुनिश्चित करते है। जिसमे Seo की नजर में एक साइट से किसी दूसरी साइट की पास वैल्यू लिंक जूस कहलाती है।
Search Engine Bot वेब को dofollow लिंक के माध्यम से क्रॉल करते हैं।

यह दर्ज करते हैं कि कौन किससे लिंक कर रहा है। ये संबंध एक प्रकार के अधिकार से गुजरते हैं जिसे SEO पेशेवर एक साइट से दूसरी साइट पर “लिंक जूस” कहते हैं। जैसे कि – आपके लिए उच्च पेजरैंक लिंक वाली एक प्रतिष्ठित साइट है। तब सर्च इंजन आपकी साइट को अधिक प्रतिष्ठित के रूप में देखते हैं। और आपके पेजरैंक को बढ़ा सकते हैं। यह सर्च इंजन परिणामों में आपकी रैंकिंग में सुधार कर सकता है।

Dofollow Backlink कैसे बनाते हैं?

जब आप अपनी वेबसाइट के लिए किसी दूसरी वेबसाइट पर एक नया लिंक बनाते हैं। जैसे कि एक नए ब्लॉग पोस्ट में यह आमतौर पर डिफ़ॉल्ट रूप से Dofollow बैकलिंक ही होता है। लेकिन दूसरी वेबसाइट किसी भी तरह के प्लगइंस या फिर एचटीएमएल कोडिंग द्वारा किसी एक्सटर्नल लिंक को Nofollow टैग के जरिए आपके लिंक की वैल्यू बदल देते है। जब आप किसी और की साइट पर अपना लिंक देते है। तो आप किसी Nofollow लिंक को Dofollow में नहीं बदल सकते। साइट के मालिक से यह पूछना होगा। कि क्या वे आपकी वेबसाइट के लिंक का अनुसरण कर सकते हैं। लिंक पर नोफ़ॉलो टैग हटा दें।

High Quality Backlink के लाभ

किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग की रैंकिंग को अच्छी करने के लिए हमेशा क्वालिटी बैकलिंक ही उपयोग होते है। इस हाई क्वालिटी बैकलिंक के लाभ इस प्रकार है।

  • गुणवत्ता वाले बैकलिंक्स कई एसईओ रैंकिंग कारकों को प्रभावित करते हैं। गुणवत्ता वाले बैकलिंक हमेशा बेशकीमती रहे हैं। क्यूंकि इन लिंक द्वारा किसी भी साइट की रैंकिंग में सुधार किया जा सकता है। और ट्रैफिक को increase किया जा सकता है।
  • क्वालिटी बैकलिंक्स आपकी वेबसाइट पर सीधा ट्रैफिक लाते हैं। अच्छी टॉप की समाचार साइटों, लोकप्रिय ब्लॉगों और अन्य गुणवत्ता वाली साइटों पर दैनिक भारी मात्रा में ट्रैफ़िक होता है। यानी जब आप इनमें से किसी भी साइट से बैकलिंक बनाते हैं। तो बहुत से लोग आपके बारे में पढ़ेंगे और आपका बैकलिंक देखेंगे। यदि वे आपकी पेशकश में रुचि रखते हैं। तो कई लोग एक्सप्लोर करने के लिए क्लिक करेंगे।

Benefits Of Backlink In Hindi

  • यह आपके लिए संभावित नए विजिटर लाता है। और क्योंकि उन्होंने अभी-अभी आपके बारे में एक टॉप साइट पर पढ़ा है। वे विजिटर आपकी वेब साइट या ब्लॉग को पहले से ही सकारात्मक दृष्टि से देख रहे होंग
  • High Quality वाले बैकलिंक्स आपके बिना पूछे अधिक बैकलिंक्स को आकर्षित करते हैं। यदि आपको किसी शीर्ष ब्लॉग या समाचार आउटलेट से अच्छा कवरेज और बैकलिंक मिलता है। तो आपको ‘अतिरिक्त’ बैकलिंक्स का बोनस मिलेगा। ये बैकलिंक्स हैं। जो आपको तब मिलते हैं जब कोई दूसरा ब्लॉगर, पत्रकार या विशेषज्ञ आपके बारे में पढ़ता है। और फिर आपके बारे में लिखकर और आपकी पोस्ट या होमपेज का लिंक अपनी वेबसाइट या पोस्ट में देता है।
  • DA और PA में बढ़ोतरी – हाई क्वालिटी बैकलिंक आपकी वेबसाइट या ब्लॉग की DA और PA यानी डोमेन अथॉरिटी और पेज अथॉरिटी को किसी भी सर्च इंजन की नजर में बढ़ाते है। जिस से की आपकी keyword रैंकिंग में सुधार आता है। और आपकी वेबसाइट या ब्लॉग रैंक होने लगता है। जिस से सर्च इंजन से ऑर्गेनिक ट्रैफिक मिलता है।

CALCULATION

आज आपको इस लेख के जरिये बैकलिंक क्या है से जुड़े अहम् पहलुओं पर जानकारी देने की एक छोटी सी कोशिश की गयी है। अगर इस बैकलिंक से जुड़ा कोई भी प्रश्न हो तो आप इसके बारे में कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!